Ghamori Kya Hotin Hain – Ghamoriyan Ke Gharelu or Ayurvedik Upchar In Hindi- Jaane.in

घमोरी आपको भी जलन और चुभन का एहसास करतीं हैं ? और आपको भी घमोरियो से परेशानी होती है या आपको भी अगर घमोरियां होतीं हैं तो आपको हमारे Ghamori Kya Hotin Hain – Ghamoriyan Ke Gharelu or Ayurvedik Upchar In Hindi- Jaane.in पोस्ट से जरुर मदद मिलेगी.

 

Ghamori Kya Hoti Hai ?

घमोरियां में शरीर पर ऐसी स्थिति हो जाती है कि शरीर के कुछ हिस्सों में चुभन सी महसूस होने लगती है और उन हिस्सों में छोटे छोटे काटो जैसा प्रतीत होने लगता है जिनमें खुजली तथा जलन होती है लेकिन यह खतरनाक नहीं होती है.

 

Ghamori-Kya-Hotin-Hain-Ghamoriyan-Ke-Gharelu-or-Ayurvedik-Upchar-In-Hindi-Jaane.in
Ghamori-Kya-Hotin-Hain-Ghamoriyan-Ke-Gharelu-or-Ayurvedik-Upchar-In-Hindi-Jaane.in

 

सामान्यतः घमोरियां तब होती है जब त्वचा के अंदर बनने वाला पसीना त्वचा के बाहर नहीं आ पाता क्योंकि त्वचा के ऊपर के भाग के छोटे-छोटे कछिद्रों को पसीने और गर्मी के मिलने पर न बनती है उससे वह चित्र बंद हो जाते हैं इस कारण शरीर के अंदर का पसीना बाहर नहीं आ पाता और शरीर पर घमोरियों होने लगती हैं आमतौर पर यह शिशुओं में सबसे ज्यादा पाई जाती हैं.

 

Gharmiyo Me Ghamori Kyu Hoti Hai ?

गर्मियों में घमोरियां होने का मुख्य कारण यह होता है कि शरीर के त्वचा के ऊपर जो छोटे-छोटे छिद्र होते हैं वह छिद्र पसीना और त्वचा के नाम होने के कारण बंद हो जाते हैं इसके कारण शरीर के अंदर की तरफ से बनने वाले पसीने को बाहर निकलने के लिए जगह नहीं मिलती और घमोरियां हो जाती हैं यह सामान्यतः गर्मियों में अधिक पसीना आने पर ही होती हैं.

घमोरियों में छोटे छोटे लाल बिंदु सेवर आते हैं जो खुजली का कारण बनते हैं और यह शरीर पर गुदगुदी सी करते हैं इस कारण से उन्हें खुजलाने पर शरीर मजबूर हो जाता है और इस प्रकार यह बढ़ते ही जाते हैं यह शरीर के एक ही समय में विभिन्न विभिन्न भागों में भी हो सकते हैं.

नवजात शिशु में पसीने वाली नलकियाँ पूरी तरह विकसित नहीं होती हैं इस कारण वे पसीना निकलते समय आसानी से बंद हो जाती हैं इससे त्वचा के नीचे का पसीना वहीं फंस जाता है और नवजात शिशुओं में जल्दी घमोरियां होने लगती हैं नवजात शिशुओं के पैदा होने के प्रारंभिक सप्ताहों में ही यह विकसित होने लगती हैं क्योंकि तब उनके शरीर के ऊपर की नली में निकलने वाली नलकियाँ पूर्ण विकसित नहीं होती हैं.

 

Ghamori Se Bachne Ke Tarike or ilaj Kya Hai ?

घमोरियां होने से बचने के लिए आपको हल्की पतले कपड़े पहनना चाहिए जिससे कि आपकी त्वचा पूर्ण रूप से सांस ले सकें जिसमें कि जैसे कि आप को टर्न या सूती के वस्त्र पहन सकते हैं.

आपको अपने आसपास के वातावरण को ठंडा रखना चाहिए या आपको घर में या जहां आप रहते हैं उस स्थान पर एयर कंडीशनर का उपयोग करना चाहिए जिससे कि वातावरण ठंडा रहे और त्वचा को सांस लेने में आसानी हो.

ऐसे स्थानों पर जहां काम करने से पसीना आए या ऐसे कोई भी काम जिनको करने पर आपको थकान या पसीना हो ऐसे कार्यों को करने से बचना चाहिए जिससे कि आपको घमोरियां ना हो.

अगर आपको घमोरियां हो जाती हैं तो घमोरियां से निजात पाने के लिए आपको अपने शरीर को समय अनुसार ठंडे पानी से बार-बार साफ करना चाहिए और घमोरियों वाले स्थान को सूती वस्त्र से साफ करना चाहिए इससे आपको घमोरियों में होने वाली खुजली और परेशानी से आराम मिलेगा और घमोरियां ठीक होने लगेंगी.

 

Ghamori Ka Gharelu Upchar Kya Hai ? In Hindi

गर्म मौसम में डिलीवर पतले कपड़ों वाले वस्त्र पहनना चाहिए जो शरीर को त्वचा से और त्वचा को नमी से दूर रख सकें.

आप घमोरियां होने पर कैलामाइन लोशन का भी प्रयोग कर सकते हैं यह आपकी त्वचा को आराम देगी.

घमोरियां होने वाले स्थान पर ठंडे पानी से सूती वस्त्र की सहायता से सिकाई करें यह घमोरियां होने पर होने वाली खुजली से आपको आराम देगी.

घमोरियां होने पर ठंडे स्नान के पश्चात टॉवल से पानी को ना पहुंचे आप ठंडी हवा में पानी को ऐसे ही सूखने दें इससे भी आपको घमोरियां होने पर आराम मिलेगा.

 

Ghamori Ka Ayurvedic Ilaj Kya Hain ?

घमोरियां होने पर घमोरियों के आयुर्वेदिक इलाज के लिए आप एलोवेरा या गवार के पार्टी का इस्तेमाल कर सकते हैं इससे निकलने वाले पलको आप घमोरियां वाले स्थान पर लगाएं इससे आपकी त्वचा को ठंडक पहुंचेगी.

घमोरियों को खत्म करने के लिए आप 4 से 5 चम्मच मुल्तानी मिट्टी में थोड़ा सा गुलाब जल मिलाकर इसका अच्छी तरह लेप बनाकर उसे घमोरियां द्वारा प्रभावित जगह पर लगाएं और 20 मिनट से 30 मिनट तक लगा रहने दें इसके पश्चात आप इसे ठंडे पानी से धो लें इससे यह होगा कि आपकी त्वचा के रोम छिद्र खुल जाएंगे और आपकी घमोरियां जल्द ही ठीक होने लगेंगी.

आप शहद का इस्तेमाल भी घमोरियों से निजात पाने के लिए कर सकते हैं आप शहद को घमोरियों वाले स्थान पर लगा सकते हैं और 15 से 20 मिनट पश्चात सेहत को अच्छी तरह ठंडे पानी से धो लें आपको खुजली और जलन में बहुत ही जल्द आराम मिलेगा.

खीरे का उपयोग कर भी आप घमोरियों से होने वाली त्वचा में जलन बा खुजली से निजात पा सकते हैं आप खीरे के पतले पतले स्लाइस कर उसे घमोरियों द्वारा प्रभावित जगह पर रखें और यह कीड़े आपको कुछ ही समय में त्वचा में ठंडक देने का काम करेंगे इससे आपकी घमोरियां जल्द ही ठीक होने लगेगी.

 

आपको हमारा Ghamori Kya Hotin Hain – Ghamoriyan Ke Gharelu or Ayurvedik Upchar In Hindi- Jaane.in पोस्ट जरुर पसंद आया होगा आप अपने सुझाब हमें कमेंट बॉक्स में दे सकते हैं और आप अपने दोस्तों के साथ हमारा पोस्ट share करना न भूलें.

About : jaane

jaane.in वेबसाइट पर आपको हिंदी भाषा में सभी प्रकार के विषयों पर सरल भाषा में जानकारी दी जाती है. ताकि आप सरल भाषा में पढ़ के जानकारी प्राप्त कर सके. हमारी इस वेबसाइट को लोगो के साथ शेयर करेक हमारी मदद करे .

loading...

Reader Interactions

Add Your Comment:

Your email address will not be used or publish anywhere.